Followers

Monday, 30 April 2018

आदमी राधा तिवारी ' राधेगोपाल '

             आदमी

Image result for आदमी की पहचान


हर दम नहीं पास बिठाता है आदमी ।
जी भर गया तो दूर भगाता है आदमी ।।

गले लगाकर गिले-शिकवे तो सब करें।
 क्रोध में मित्र को शत्रु बनाता है आदमी ।।

जीवन और मृत्यु तो है ईश्वर के हाथ में ।
इंसान में मृत्यु का खौफ जगाता है आदमी ।।

हैवान बन कर रात को चलता है दरबदर ।
स्वयं को इंसान नहीं भगवान बताता है आदमी।।

राधे जो इस धरा पर खुद को ढूंढने गई ।
अपने ऐब हर समय छुपाता है आदमी।।

Saturday, 28 April 2018

पृथ्वी दिवस राधा तिवारी ' राधेगोपाल '

पृथ्वी दिवस 
धरा दिवस के रूप में, है बाईस अप्रैल ।
जीवन में इस दिवस को, बना न देना खेल ।।

अपने पास पड़ोस में ,करो स्वच्छ परिवेश।
 अपना भी कर्तव्य है ,सरकारी आदेश ।।

जल सूरज की प्रचुरता, रखता भारत देश ।
झीलों नदियों से भरा ,है इसका परिवेश ।।
  
पीने योग्य बनाइए, अब सागर का नीर ।
जल के बिन होते यहां, जंतू सभी अधीर।।

 धरा दिवस पर दीजिए, सब को यह संदेश।
 पेड़ लगाकर धरा पर,बचा लीजिए देश।। 

सूख गई नदियां सभी, सूख गए हैं खेत।
 बंजर अब धरती हुई ,शेष रह गया रेत ।।

हरियाली सब लुप्त है, खेत हुए बर्बाद।
 खेतों में अब डालते ,लोग विदेशी खाद।।

Thursday, 26 April 2018

मेरा मन राधा तिवारी' ' राधेगोपाल '


मेरी साँसों के तारों को,
किसने झँकृत कर डाला।
मेरा मन कीट पतंगों सा,
हो गया आज क्यों मतवाला।।

पतवार नहीं कर में मेरे,
नौका को पार करो मेरी।
अब नहीं सूझती राह मुझे,
नौका को लहरों ने घेरी।।

मेरे मन में है चाह यही,
हरदम मेरे दिल में रहना।
यह तो तेरा अपना घर है,
हँसते-हँसते पीड़ा सहना।।

यह कौन कहाँ से आए हैं,
किसने की है जोरा जोरी।
दिल की धड़कन में बस करके,
तुमने मेरी निंदिया चोरी।।

मेरे दो नैनों में आकर,
किसने ज्योति रोशन कर दी।
मेरे तन में बस करके.
इक नई ऊर्जा है भर दी।।

व्याकुल हो जाता है मन जब,
तब अन्धकार छा जाता है ।
खुशियों की मधुर कल्पना में,
सुन्दर मधुबन आ जाता है ।।

Monday, 23 April 2018

जोकर राधा तिवारी 'राधेगोपाल '

 जोकर 
Image result for जोकर
सर्कस में जोकर ने मुखौटा जो पहना
 कहा उसने जग में सबसे हंसते ही रहना 

ना रोना कभी भी आंसू बहा कर
 हँसना सदा ही ठहाके लगाकर

 मगर जब उसने मुखौटा उतारा 
हंसते हुआ चेहरे से किया किनारा 

दुख की दरिया में डूबा दिखा वह 
भीतर ही भीतर रोता दिखा वह

 जग को हंसाने को दर्द अपना छिपाया
 अकेले में दुख दरिया में डूबा हुआ पाया 

तो क्यों ना मैं जग के संग ही रम जाऊं
 अकेले ना रहूं अगर वहां दुख में पाऊं

अरे हंस कर मैंने तुम्हें भी हंसाया 
अपना उसको भी बनाया जो था पराया

 विचार यही उसके मन में आने लगा था
 दुख अपना छिपाकर था तुम को हंसाया

 कुछ पल का जीवन है यह तुम्हारा हमारा
 हंस के बिताया हुआ हर पल है हमारा 

पिफर क्यों ना हम हंस कर यह जीवन बिता दें
हम दुख के समुंदर को दूर हटा दें

Sunday, 22 April 2018

दोराहे राधा तिवारी ' राधेगोपाल '

दोराहे 
Image result for दोराहा
फंस जाती हूं कभी-कभी दोराहे पर 
सोचती हूं इधर जाऊं तो कैसा होगा 
उधर जाऊं तो कैसा होगा 
यहां रहूं तो ऐसा होगा 
वहाँ रहूँ तो वैसा होगा
समझ नहीं आता है 
दो नाव में पैर रखना बड़ा मुश्किल है 
यदि एक नाव इधर-उधर हुई 
तो पैर डगमगाया और हम सीधा नदी में 
सोचती हूँ क्या यह दोराहे 
केवल मेरे ही जीवन में आते हैं 
या सभी को इन से दो-चार होना होता है 
काश इन दो राहों की जगह 
केवल एक राह होती 
तो fजंदगी हंसी खुशी चल पाती  
एक को छोड़ने का दुख नही होता 
न दूसरे को पकड़ने की कोfशश 
एक राह एक काम....

Friday, 20 April 2018

"मेघ" राधा तिवारी ' राधेगोपाल'

                     
मेघ
Image result for cloud

सर्व सुख दाता विधाता, हो मेरे मन भावना। 
नभ में मेघ बुलाकर करते, मौसम अतिसुहावना।। 

बारिशों की बूँदों से, पत्ते झूमें लहर हिलोर । 
तुम बसन्त में कर जाते हो, मन को बहुत विभोर।।

उमड़-घुमड़ कर जब तुम आते, सबके मन को हरसाते । 
गरज बरस कर ही जाते हो,  धरती पर हरियाली लाते।। 

रंग गन्दुमी जब भी नभ में, इधर उधर को मंडराए।
 तब सारी दुनिया कहती है, बादल आये बादल आए ।।

सूखी धरती करे निवेदन, बादल आओ बादल आओ। 
हरियाली उपजे धरती में, आकर पानी बरसाओ।। 

गर्मी से जब लोग तड़पते, तुम शीतलता लाते हो। 
तुम ही हो घनश्याम सलोने, राधे के मन भाते हो।।

Wednesday, 18 April 2018

सूर्य का प्रकाश

सूर्य का प्रकाश
Image result for the sun
   सूर्य का प्रकाश जब भी मेरे आँगन आता है
सुर्य की  चटक किरणों से घर मेरा जगमगाता है

 अंधेरे को दूर भगा उजियारा वह करता है
 दुख दर्द की पीड़ा हर कर गीत खुशी के गाता है

 सूर्य की किरणें सदा हर हाल में मिलती रहे
 सूर्य की ही रोशनी से हर कली खिलती रहे

 चारों दिशाओं में रवि तेरा ही गुणगान हो
 सुबह सवेरे उठते ही तेरा ही सम्मान हो

 तुम से होते दूर अंधेरे तुम जीवन वरदान हो 
तुम बिन यह जग कुछ भी नहीं तुम ही तो भगवान हो 

तुम से ही हम सोते जगते तुम ही ईश महान हो
सुबह सवेरे मेरा आँगन तुमसे ही प्रकाशवान हो

Friday, 13 April 2018

दोहे "अम्बेडकर जयन्ती" (राधा तिवारी)

दलितों के अंबेडकर, तुमको कोटि प्रणाम।
संविधान निर्माण कर, पाया जग में नाम।।

भीमा देवी ने दिया, ममता और दुलार।
पिता राम का भी मिला, तुमको नेह-अपार।।

संविधान पर पुस्तकें, लिख कर पाया नाम।
स्वतंत्रता संग्राम में, झेले कष्ट तमाम।।

अपने बल पर ही मिला, तुमको भारत-रत्न।
देश-समाज सुधार के, किये बहुत प्रयत्न।।

बाबा ने कितने किये, दलितों पर उपकार।
आजादी के बाद में, दिया उन्हें उपहार।।

बलवानों के कर दिये, मनसूबे सब भंग।
संविधान ऐसा रचा, जगत रह गया दंग।।
राधा तिवारी (राधे गोपाल)
(राधा तिवारी "राधेगोपाल") 

Sunday, 1 April 2018

दोहे "एक गरीब किसान" (राधा तिवारी)

खेतों में से अन्न को, रहा किसान समेट।
धरती का भगवान तो, भरता सबका पेट।।

घर की रखवाली करे, बनकर टॉमी शेर।
चोरों की पहचान में, नहीं लगाता देर।।

पाल रहा सबका उदर, निर्धन श्रमिक किसान।
पर उसके सन्ताप का, नहीं हमें अनुमान।।

शरद ऋतु की रात है, घास फूस का धाम।
बिना रजाई के नही, चलता है अब काम।।

सोच-सोच कर रो रहा, एक गरीब किसान।
कपड़े तन पर हैं नहीं, आफत में है जान!!