Thursday, 4 October 2018

दोहे "ऊंचे तरुवर चीड़ के"( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

ऊंचे तरुवर चीड़ के
Image result for चीड के पेड़
 ऊंचे तरुवर चीड़ केपर्वत की है शान।
 ब्रह्मकमल का सुमन तो ,पाता हरदम मान।

 टेढा मेढा रास्ताजाए कैसे गांव।
 राह कटीली है सभीफट जाते हैं पाँव।।

 चले अगर सन्मार्ग परहरदम ही इंसान।
 मुसीबतें उनको कभीकरे नहीं हलकान।।

 शब्द बहुत अनमोल है ,बोलो रखकर ध्यान।
 अच्छे शब्दों से सदामानव की पहचान।।

 नहीं टूटने चाहिएआपस के संबंध।
 सच्चाई से कीजिए ,जीवन में अनुबंध ।।

वन उपवन में चल रहीशीतल मंद बयार।
 रोज टहलने का करोमन में आप विचार।।