Wednesday, 3 October 2018

दोहे " गुरुदेवकी बात को " ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

 गुरुदेव 
खुश होकर सब से मिलोदेखो यह संसार 
क्रोध कभी मत कीजिएकरना सबसे प्यार।।

 सूरज बिन अच्छा नहींलगता है आकाश।
 चंदा सूरज जगत कोदेते हैं प्रकाश ।।

मन बहलाने के लिए ,अब है साधन ढेर।
 देर भले ही है यहाँ , पर नहीं है अंधेर।।

 काम क्रोध मद लोभ सेरहना हरदम दूर।
 इनका करके त्याग तुमयोग करो भरपूर।।

 गुरुदेव की बात कोमत जाना तुम भूल।
 इनकी मीठी बात से ,हटे राह के शूल।।

 जीवन जीने के लिएसबसे करना प्यार।


 प्यार नहीं है वासना ,यह तो है उपहार।।