Followers

Saturday, 11 August 2018

ग़ज़ल " पायल " (राधा तिवारी" राधेगोपाल ")


पायल
Image result for पायल image
दुल्हन पिया को देखकर क्यों इतना शर्माती है l
 नाक में नथनी कान में कुंडल पहनके क्यों इतराती है ll

 साजनजी जब पास बुलाते हौले हौले जाती है l
 जब पायल के घुंघरू बजते मन में क्यों इठलाती है ll

 चुपचाप हो सुनती बातें जब पिया उसे कुछ कहते हैं  l
पर साजन की बात किसी से कभी नहीं बतलाती है ll

 प्रियतम से वह बात हमेशा चुपके चुपके करती है l
 सखियों को तब देख सामने मन ही मन मुस्काती है ll

 पनघट पर जब गरी लेकर पानी भरने जाती है l
छलक उठे उसकी गागर इतना क्यों बलखाती हैll