Friday, 14 September 2018

गीत "हिंदी पर अभिमान कीजिए " ( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

 हिन्दी  पर अभिमान कीजिए
Image result for हिन्दी  आर्ट
भारत में रहने वालों हिंदी पर अभिमान कीजिए 
अपनी भाषा बोली पर इस जीवन को बलिदान कीजिए

 साल में केवल इक दिन लोगों क्यों करते हिंदी को याद
 खामोशी से  तड़प रही है करती है हिंदी फरियाद 
हर पल हर दिन तुम हिंदी का लगातार सम्मान कीजिए
 अपनी भाषा बोली पर इस जीवन को बलिदान कीजिए

 जब हो धरा गगन की बातें भूलो मत चंदा तारे
 हिंदू मुस्लिम सिख इसाई आपस में भाई सारे
 मानव होने पर इस तन पर थोड़ा तो अभिमान  कीजिए
 अपनी भाषा बोली पर इस जीवन को बलिदान कीजिए

 अज्ञानी को ज्ञान बांटते यह हिंदी की बिंदी है 
राष्ट्रीय एकता का प्रतीक ये अपनी प्यारी हिंदी है 
हिंदुस्तान को हिंदी से लोगों अब तो धनवान कीजिए 
अपनी भाषा बोली पर इस जीवन को बलिदान कीजिए 

संस्कृत उर्दू पाली प्राकृत से अपनी पहचान करो 
अंग्रेजी को भूल  जाओ पर हिंदी  पर अभिमान करो 
हिंदी को अपनाकर तुम खुद पर भी स्वाभिमान कीजिए 
अपनी भाषा बोली पर इस जीवन को बलिदान कीजिए