Friday, 1 June 2018

तुम्हारा संग (राधातिवारी "राधेगोपाल")






                            तुम्हारा संग




मेरे जीवन की नदियां में तुम्हारा संग किनारा है
 अगर तूफान भी आ जाए तेरा संग लगता प्यारा है
तुम्हारे वास्ते ही तो छनकती पाँव की पायल
कंगना भी मेरे प्रियतम  मुझे करते इशारा है
तेरी हर एक अदा पर तो बलिहारी मैं जाती हूं
तेरा दिल हो कर तेरा भी मगर लगता हमारा है
 सितम दुनिया के ये सारे मैं हंस के पार कर लूंगी
मगर तेरी अदाओं पर तो दिल हरदम ही हारा है
जगत में ढूंढती गोविंद सदा मीरा बनी राधे
 मेरा गोपाल तो सारे जग से न्यारा है